ads banner
ads banner
ads banner buaksib
ads banner
ads banner buaksib
ads banner
अंतरराष्ट्रीयदबंग दिल्ली के तीन मुख्य Reason जो हरा सकते है यह सीजन,...

दबंग दिल्ली के तीन मुख्य Reason जो हरा सकते है यह सीजन, क्या इनसे उभरेगी टीम?

दबंग दिल्ली के तीन मुख्य Reason जो हरा सकते है यह सीजन, क्या इनसे उभरेगी टीम?

प्रो कबड्डी लीग के आठवें सीजन में दबंग दिल्ली ने विजेता बन सबको चौंका दिया था. लेकिन इस सीजन कुछ Reason वहीं अब टीम की और इसके खिलाड़ियों की नजर आगे सीजन में खिताब को बरकरार रखने पर है. दिल्ली पिछले सीजन में 22 मैचों में 75 अंक बटोरकर दूसरे स्थान पर रही थी.

दबंग दिल्ली के इस सीजन नहीं जीतने के Reason

दबंग दिल्ली ने पिछले सीजन में पटना की टीम को हराकर खिताब अपने नाम किया था. प्रो कबड्डी लीग के इतिहास में पटना की टीम एकमात्र ऐसी टीम है जिसने लगातार तीन बार खिताब अपने नाम किया है. किसी भी टीम के लिए लगातार इतनी बार खिताब को अपने पास रखना आसान नहीं होता है. कुछ ऐसे कारण है जिससे लगता है कि दबंग इस बार खिताब को नहीं बचा पाएगी.

दबंग दिल्ली के इस सीजन में विजेता नहीं बन पाने का एक कारण ये रहेगा कि इसका डिफेंस काफी कमजोर है. क्योंकि टीम ने संदीप नरवाल, जीवा कुमार और जोगिन्दर सिंह नरवाल जैसे डिफेंडर को पहले ही रिलीज कर दिया है. वहीं इनके बजाए टीम ने युवाओं पर भरोसा जताया है.

टीम में अनुभव की कमी भी बन सकती हार का कारण

दूसरा कारण दिल्ली के खिताब नहीं जीतने का ये हो सकता है कि दिल्ली की टीम सिर्फ एक खिलाड़ी पर टिकी है और वो हैं नवीन कुमार. अगर नवीन कुमार किसी कारणवश खेल नहीं पाते है तो नवीन कुमार का उनके पास कोई बेकअप नहीं है. दिल्ली की टीम पिछले सीजन में भी नवीन कुमार पर ही निर्भर थी और इस बार भी वही लग रहा है. और अगर नवीन कुमार टीम में नहीं होंगे तो दिल्ली का जीतना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन हो सकता है.

तीसरा सबसे प्रमुख कारण टीम के विजयी नहीं होने का ये है कि टीम ने मनजीत छिल्लर, संदीप नरवाल, जोगिन्दर नरवाल और जीवा कुमार जैसे खिलाड़ी नहीं होंगे. मनजीत छिल्लर ने जहां रिटायरमेंट ले लिया है तो वहीं टीम ने बाकी खिलाड़ियों को टीम से रिलीज कर दिया है. ऐसे में टीम अनुभव वाले डिपार्टमेंट में कमजोर नजर आ रही है.

 

Yash Sharma
Yash Sharmahttps://prokabaddilivescore.com/
मुझे 12 साल की उम्र से ही इस खेल में दिलचस्पी है। मैं प्रो कबड्डी का फैन हूं।

प्रो कबड्डी न्यूज़ इन हिंदी

कबड्डी हिंदी लेख