ads banner
ads banner
ads banner buaksib
ads banner
ads banner buaksib
ads banner
खेलकौन सी टीम कितनी मजबूत? जानिए सभी PKL 10 टीमों की Ranking

कौन सी टीम कितनी मजबूत? जानिए सभी PKL 10 टीमों की Ranking

कौन सी टीम कितनी मजबूत? जानिए सभी PKL 10 टीमों की Ranking

Ranking of all PKL 10 Team: प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल10) करीब है और 2 दिसंबर से शुरू हो रही है। लीग को भारी सफलता मिली है और अब इसका 10वां संस्करण शुरू होने वाला है।

अक्टूबर में पीकेएल 10 की नीलामी में टीमों ने अंतिम मुकाबले के लिए अपनी टीमें बनाईं। कुछ पक्ष कागज़ पर अच्छे दिख सकते हैं, लेकिन इससे किसी चीज़ की गारंटी नहीं मिलती। मैच के दिन क्या होता है यह इस बात पर निर्भर करता है कि उस दिन खिलाड़ी मानसिक रूप से कितने मजबूत हैं।

उस नोट पर, आइए आगे बढ़ें और पीकेएल 10 से पहले टीमों को उनकी टीम के आधार पर रैंक करें।

Ranking of all PKL 10 Team

12) तमिल थलाइवाज

प्रो कबड्डी लीग में अपने पहले खिताब का लक्ष्य लेकर चल रही तमिल थलाइवाज बड़ी उम्मीद के साथ आगामी सीज़न में प्रवेश कर रही है। थलाइवाज ने अजिंक्य पवार और नरेंद्र की गतिशील रेडिंग जोड़ी को बरकरार रखा है।

टीम ने उभरती प्रतिभाओं में भी निवेश किया है। हालाँकि, उनका आक्रमण अपेक्षाकृत अनुभवहीन है, केवल अजिंक्य के पास ही महत्वपूर्ण अनुभव है। टीम में ऑलराउंडर विभाग में गहराई की कमी है, जिसमें रितिक एकमात्र ऑलराउंडर हैं।

ईरानी डिफेंडर मोहम्मदरेज़ा काबौद्रहांगी का शामिल होना लाइनअप में एक अच्छा संतुलन प्रस्तुत करता है।

11) पटना पाइरेट्स

तीन बार की चैंपियन पटना पाइरेट्स पिछले सीजन की सफलता को दोहरा नहीं सकी और तालिका में 10वें स्थान पर रही। पाइरेट्स ने नीलामी में अपनी टीम में महत्वपूर्ण बदलाव किए हैं और अब पीकेएल 10 में नए सिरे से दिखाई देंगे।

टीम के पास सचिन, मंजीत और राकेश नरवाल जैसे क्लास रेडरों के साथ एक प्रतिभाशाली रेडिंग यूनिट है। पटना पाइरेट्स के लिए प्राथमिक खतरा रक्षात्मक संरचना के इर्द-गिर्द घूमता है। जबकि अनुभवी नीरज कुमार दाएं कोने में मौजूद हैं, शादलूई के जाने से एक खालीपन आ गया है जिसे तत्काल भरने की जरूरत है।

10) यू मुंबा

Ranking of all PKL 10 Team: यू मुंबा एक ऐसी टीम के साथ पीकेएल 10 में प्रवेश कर रहा है जो रक्षात्मक विभाग में ताकत दिखाती है लेकिन रेडिंग इकाई में चिंताएं बढ़ाती है।

उनके पास एक मजबूत रक्षात्मक लाइनअप है जिसमें सुरिंदर सिंह, रिंकू, महेंद्र सिंह और गिरीश एर्नाक जैसे खिलाड़ी शामिल हैं।

उनकी बड़ी चुनौती छापेमारी विभाग में एक नेता की कमी है। वे गुमान सिंह और जय भगवान को अपने शीर्ष रेडर के रूप में वापस लाने में कामयाब रहे हैं।

9) हरियाणा स्टीलर्स

टीम की सबसे बड़ी ताकत मोहित नंदल और जयदीप दहिया की मजबूत कवर डिफेंस जोड़ी है। कई सीज़न तक एक साथ खेलने वाली यह अनुभवी जोड़ी स्टीलर्स की रीढ़ होगी।

छापेमारी के मोर्चे पर, स्टीलर्स ने ‘बाहुबली’ सिद्धार्थ देसाई की सेवाएं हासिल कर ली हैं। उनका समर्थन चंद्रन रंजीत और विनय करेंगे। रेडिंग को लेकर वे काफी व्यवस्थित दिख रहे हैं, लेकिन उनकी चुनौती अनुभवी कॉर्नर डिफेंडरों की कमी होगी।

8) बंगाल वॉरियर्स

वॉरियर्स का लक्ष्य अपने स्टार रेडर मनिंदर सिंह को ₹2.12 करोड़ में हासिल करके आगामी अभियान में एक मजबूत बयान देना है। उन्होंने दोनों पर अपना भरोसा दिखाते हुए श्रीकांत जाधव और शुभम शिंदे पर भी एफबीएम का इस्तेमाल किया।

उनके पास गुणवत्तापूर्ण रक्षा का अभाव है और वे शुभम पर निर्भर हैं। हालाँकि, यह युवाओं को आगे बढ़ने और मैच जिताने वाला प्रदर्शन करने का अवसर प्रदान करता है।

7) बेंगलुरु बुल्स

बेंगलुरू बुल्स एक ऐसी टीम के साथ पीकेएल 10 में प्रवेश कर रहा है जो ताकत और चिंता के क्षेत्रों दोनों का दावा करती है। टीम की ताकत उसकी सुलझी हुई रेडिंग तिकड़ी में निहित है, जिसमें भरत हुडा, विकास खंडोला और नीरज नरवाल शामिल हैं।

इसके अतिरिक्त, बुल्स भरोसेमंद कॉर्नर डिफेंडरों सौरभ नंदल और अमन अंतिल पर भरोसा कर सकते हैं।

साजिन चन्द्रशेखर और त्यागराजन युवराज जैसे युवा रक्षकों को बाएं कोने में आगे बढ़ना होगा। उन्होंने कृष्ण ढुल को भी शामिल किया, जिन्होंने पिछले दो सीज़न में दबंग दिल्ली केसी के लिए अच्छा प्रदर्शन किया था।

6) तेलुगु टाइटन्स

तेलुगु टाइटंस ने हाल ही में पीकेएल में काफी संघर्ष किया है और पिछले दो सीज़न से वह लकड़ी के चम्मच होल्डर के रूप में खेल रहे हैं। वे अपनी किस्मत बदलने की नई उम्मीद के साथ पीकेएल 10 में प्रवेश करते हैं।

उन्होंने ₹2.605 करोड़ की रिकॉर्ड-तोड़ राशि के लिए पीकेएल के सर्वश्रेष्ठ रेडरों में से एक, पवन सहरावत को शामिल करके उस प्रक्रिया की शुरुआत की। रजनीश दलाल पवन के सहयोगी रेडर की भूमिका निभाएंगे।

5) गुजरात जाइंट्स

Ranking of all PKL 10 Team: पिछले साल जाइंट्स का सीजन अच्छा नहीं रहा था और वह अंक तालिका में आठवें स्थान पर रही थी। दिग्गजों ने ईरानी मारक क्षमता और उग्र भारतीय खिलाड़ियों को मिलाकर एक टीम बनाई है।

वे फज़ल अत्राचली और मोहम्मद नबीबख्श की ईरानी जोड़ी को एक साथ खेलते देखेंगे भारतीय मोर्चे पर, उनके पास अनुभवी डिफेंडर सोमबीर गुलिया और रेडर पार्टिक दहिया और राकेश एचएस की सेवाएं हैं।

उनके लिए चुनौती किसी भी चोट की स्थिति में इन खिलाड़ियों के लिए आदर्श प्रतिस्थापन ढूंढना होगा।

4) दबंग दिल्ली के.सी

पिछले सीज़न में एलिमिनेटर में हारने के बाद, अब उनका लक्ष्य आगे बढ़कर पीकेएल 10 में ट्रॉफी जीतना होगा। दिल्ली के पास विपुल ‘नवीन एक्सप्रेस’ नवीन कुमार के नेतृत्व में एक मजबूत छापेमारी इकाई का दावा है।

आशु मलिक और मीतू के शामिल होने से छापेमारी शस्त्रागार और मजबूत हो गया है। उन्होंने अनुभवी विशाल भारद्वाज की सेवाएं भी हासिल कीं, जो शुरुआत में नीलामी में नहीं बिके थे।

उनकी चिंता एक अच्छे ऑलराउंडर की कमी है। आकाश प्रशर उनके लाइनअप में एकमात्र ऑलराउंडर हैं जिनके पास पीकेएल अनुभव की कमी है।

3) यूपी योद्धा

यूपी योद्धा एक मजबूत टीम के साथ पीकेएल 10 में प्रवेश कर रहे हैं, जो लीग के सबसे व्यवस्थित कोर समूहों में से एक है। उन्होंने नितेश कुमार, आशु सिंह, सुरेंदर गिल और प्रदीप नरवाल जैसे अपने प्रमुख स्टार खिलाड़ियों को बरकरार रखा है। पूर्व दबंग दिल्ली केसी रेडर सहित, विजय मलिक ने योद्धाओं के लिए शीर्ष पर चेरी जोड़ दी है।

यूपी योद्धाओं के लिए चिंता का एकमात्र बिंदु उनके कुछ स्टार खिलाड़ियों जैसे परदीप और सुरेंदर की संभावित चोटें हो सकती हैं, जो पिछले साल इससे जूझ रहे थे। कुल मिलाकर, यूपी योद्धा अपने इतिहास में पहली बार खिताब जीतने के प्रबल दावेदारों में से एक हैं।

2) जयपुर पिंक पैंथर्स

पैंथर्स के पास खिलाड़ियों का एक स्थिर और अनुभवी कोर समूह है जो एक-दूसरे की खेल शैली से परिचित हैं।

टीम अपने प्राथमिक रेडर के रूप में अर्जुन देशवाल और वी अजित कुमार पर बहुत अधिक निर्भर है। अनुभवी रेडर राहुल चौधरी की गिरती फॉर्म टीम की रेडिंग गहराई को लेकर चिंता पैदा करती है।

अनुभवी ईरानी खिलाड़ियों रेजा मीरबाघेरी और अमीर मालेकी को शामिल करने से भी टीम को फायदा होगा। साहुल कुमार, अंकुश और सुनील कुमार उनकी रक्षा की रीढ़ होंगे।

1) पुनेरी पलटन

Ranking of all PKL 10 Team: पुनेरी पलटन इस बार एक कदम आगे बढ़ने के लिए उपविजेता के रूप में पीकेएल 10 में प्रवेश कर रही है। असलम इनामदार और मोहित गोयत के रूप में उनके पास बेहतरीन रेडिंग जोड़ी है। टीम के पास पंकज मोहिते और आकाश शिंदे के रूप में अच्छे बैकअप विकल्प भी हैं।

हालांकि उन्होंने फ़ज़ल अत्राचली को खो दिया, जिसमें मोहम्मदरेज़ा शादलूई चियानेह भी उनका मुख्य आकर्षण रहा है। हालाँकि, टीम के पास शादलूई के साथ साझेदारी करने के लिए एक सिद्ध डिफेंडर की कमी है, जिससे अबिनेश नादराजन और संकेत स्वांत जैसे खिलाड़ियों पर दबाव बढ़ रहा है।

Also Read: Kabaddi match के Officials और उनके कार्य क्या होते है?

Aditya Jaiswal
Aditya Jaiswalhttps://prokabaddilivescore.com/
आपका प्रो कबड्डी सूचना स्रोत। नवीनतम कबड्डी समाचार संवाददाताओं में से एक जो खेल पर कहानियां और रिपोर्ट लिखता है।

प्रो कबड्डी न्यूज़ इन हिंदी

कबड्डी हिंदी लेख