ads banner
ads banner
ads banner buaksib
ads banner
ads banner buaksib
ads banner
अंतरराष्ट्रीयफजल ने अपनी प्लेइंग 7 में नहीं दी पवन, परदीप को जगह,...

फजल ने अपनी प्लेइंग 7 में नहीं दी पवन, परदीप को जगह, खुद को बनाया कप्तान

फजल ने अपनी प्लेइंग 7 में नहीं दी पवन, परदीप को जगह, खुद को बनाया कप्तान

प्रो कबड्डी लीग के इतिहास में सबसे सफल कप्तान का तमगा जीतने वाले फजल अत्राचली ने अपनी पसंदीदा प्लेइंग 7 को चुना है. कबड्डी के प्रमुख सात खिलाड़ियों में उन्होंने खुद को को भी चुना है और कप्तान घोषित किया है. लेकिन इसमें चौकाने वाली बात यह रही कि उन्होंने अपनी टीम में परदीप नरवाल, पवन सहरावत, राहुल चौधरी, मंजीत छिल्लर जैसे बेहतरीन खिलाड़ियों को नहीं लिया है.

फजल अत्राचली ने चुनी अपनी पसंदीदा प्लेइंग 7

फजल पुणे टीम से खेलने से पहले वह यूं मुम्बा, पटना टीम और गुजरात जॉइंट्स के लिए खेल चुके हैं. उन्होंने दूसरे सीजन में अपने करियर की शुरुआत मुंबई टीम से ही की थी. शायद इसी कारण से उन्होंने अपनी टीम में अधिकतर मुंबई टीम के खिलाड़ियों को जगह दी है.

मीडिया से बातचीत करते हुए उन्होंने अपनी पसंदीदा टीम के बारे में विस्तार से बताया है. जिसमें उन्होंने खुद को लेफ्ट कार्नर में जगह दी है. साथ ही राईट कार्नर में प्रशन को रखा है. इसके अलावा कवर्स के लिए उन्होंने जीवा कुमार और सुरजीत सिंह को जगह दी है. उनकी टीम के मुख्य रेडर्स के रूप में अनूप कुमार, शब्बीर बापू, राकेश कुमार को टीम में जगह मिली है. इन सभी दिग्गज खिलाड़ियों की टीम में फजल खुद कप्तान बने हैं. आपको बता दें कि इन सात खिलाड़ियों में से 6 खिलाड़ी मुंबई टीम के लिए खेलें हैं. जिसमें फजल भी शामिल थे.

उन्होंने इसके बारे में बात करते हुए बताया कि, ‘शुरुआत में मेरी दोस्ती अनूप कुमार से इतनी अच्छी नहीं थी क्योंकि में ईरान का कप्तान था और वो भारत के कप्तान थे. हालांकि जब आप एक-दूसरे से बात नहीं करते है तब तक आप नहीं जान पाते हैं. लेकिन जब आप उन्हें जानने लगते हैं तब उनके बारे में अच्छी बातें पता लगा पाते हैं.’

उन्होंने आगे कहा कि, ‘ऐसे ही मैं अनूप कुमार के साथ रहा तब पता लगा कि वह कितने अच्छे इंसान हैं. और बेहतरीन खिलाड़ी भी है. उनके साथ रहकर मुझे काफी कुछ सीखने को मिला है. और इस तरीके से हम दोनों का तालमेल भी अच्छा बना हैं.’

 

 

Yash Sharma
Yash Sharmahttps://prokabaddilivescore.com/
मुझे 12 साल की उम्र से ही इस खेल में दिलचस्पी है। मैं प्रो कबड्डी का फैन हूं।

प्रो कबड्डी न्यूज़ इन हिंदी

कबड्डी हिंदी लेख