ads banner
ads banner
ads banner buaksib
ads banner
ads banner buaksib
ads banner
घरेलूअंतरराष्ट्रीय Kabaddi Referee Aarti Ajay Bari महिला कोचों को देंगी ट्रेनिंग

अंतरराष्ट्रीय Kabaddi Referee Aarti Ajay Bari महिला कोचों को देंगी ट्रेनिंग

अंतरराष्ट्रीय Kabaddi Referee Aarti Ajay Bari महिला कोचों को देंगी ट्रेनिंग

Kabaddi Referee Aarti Ajay Bari: अंतरराष्ट्रीय और प्रो कबड्डी लीग (Pro Kabaddi League) रेफरी आरती अजय बारी छह डिवीजन वार स्थानीय महिला प्रशिक्षकों (Women Coaches) को कबड्डी स्किल की ट्रेनिंग (Kabaddi skills training) देंगी।

जिन छह कबड्डी कोच को Kabaddi Referee Aarti Ajay Bari ट्रेनिंग देगी, वह कोच आगे चंद्रपुर जिले (Chandrapur District) की 300 आदिवासी महिला खिलाड़ियों को प्रशिक्षण देंगे।

यह ट्रेनिगं सेशन जिला खेल परिसर, चंद्रपुर, महाराष्ट्र में होगा। इस पहल के पीछे का मकसद ग्रामीण क्षेत्रों के खिलाड़ियों को प्रशिक्षित करना है ताकि वे राज्य और फिर राष्ट्रीय स्तर पर कबड्डी खेल सकें।

साथ ही ये आदिवासी खिलाड़ी कबड्डी खेल की मुख्य धारा में होंगे। इस ट्रेनिंग सेशन की पहल का आयोजन जौहर, मोखड़ा, पालघर, महाराष्ट्र में किया गया था जो लगभग चार साल पहले हुआ था।

कौन है Kabaddi Referee Aarti Ajay Bari?

महाराष्ट्रीयन आरती एक कबड्डी खिलाड़ी है जो रेफरी (Kabaddi Referee Aarti Ajay Bari) बन गई है। वह प्रो कबड्डी लीग सीज़न 2 से 9, खेलो इंडिया यूथ गेम्स, नेशनल गेम्स और नेशनल चैंपियनशिप जैसे कई टूर्नामेंट में रेफरी के रूप में काम कर रही हैं।

कबड्डी वर्ल्ड कप 2016, एशियाई कबड्डी चैंपियनशिप 2017, कबड्डी मास्टर्स दुबई 2018 और एशियाई खेल 2018 जैसे अंतर्राष्ट्रीय कबड्डी टूर्नामेंट भी उनके द्वारा रेफरी के रूप में देखे गए।

PKL से बढ़ा कबड्डी का वर्चस्व

वैसे भारत में कबड्डी का इतिहास बहुत ही समृद्ध है, यह खेल पुरातन काल से हो अस्तित्व में रहा है, लेकिन क्रिकेट की तुलना में यह खेल ज्यादा नहीं उभर पाया है। पहले कबड्डी का खेल ज्यादातर राज्यों तक सिमटा हुआ था। लेकिन प्रो कबड्डी लीग (Pro Kabaddi League) जैसे टूर्नामेंट के आ जाने के बाद से कबड्डी को अब विश्व ख्याति उपलब्धि मिल रही है।

इसका सबसे बड़ा उदाहरण PKL में देखा जा सकता है, क्योंकि अब PKL में कई विदेशी खिलाड़ियों का भी आगमन हो रहा है, जिससे यह पता चलता है कि कबड्डी का खेल सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि दूसरे देशों में भी फैल रहा है।

इस खेल को आगे बढ़ाने के लिए ही कबड्डी कोच को ट्रेनिंग देने की पहल शुरू की गई है। इस पहल के पीछे का मकसद ग्रामीण क्षेत्रों के खिलाड़ियों को प्रशिक्षित करना है ताकि वे राज्य और फिर राष्ट्रीय स्तर पर कबड्डी खेल सकें।

ये भी पढ़ें: जानिए क्या है JSW Sports? जिसके साथ कबड्डी स्टार पवन सहरावत ने की है डील

Aditya Jaiswal
Aditya Jaiswalhttps://prokabaddilivescore.com/
आपका प्रो कबड्डी सूचना स्रोत। नवीनतम कबड्डी समाचार संवाददाताओं में से एक जो खेल पर कहानियां और रिपोर्ट लिखता है।

प्रो कबड्डी न्यूज़ इन हिंदी

कबड्डी हिंदी लेख