ads banner
ads banner
ads banner buaksib
ads banner
ads banner buaksib
ads banner
टीमोंTelugu Titans Playoffs के लिए क्यों नहीं क्वालीफाई कर पाई?

Telugu Titans Playoffs के लिए क्यों नहीं क्वालीफाई कर पाई?

Telugu Titans Playoffs के लिए क्यों नहीं क्वालीफाई कर पाई?

Telugu Titans in PKL 10: तेलुगु टाइटंस एक बार फिर प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) 2023 के प्लेऑफ के लिए क्वालीफाई करने में असफल रही। वे पूरे सीज़न में केवल 21 अंक जुटाने में सफल रहे, तालिका में सबसे नीचे रहे।

टाइटन्स ने अपने 22 मैचों में से केवल दो जीते और 19 हारे। उन्होंने अपने पिछले पांच मैचों में से चार में हार के साथ टूर्नामेंट को बिना किसी जीत के समाप्त किया।

उनकी आखिरी प्रो कबड्डी 2023 लीग-स्टेज प्रतियोगिता यू मुंबा के खिलाफ 45-45 के स्कोर के साथ ड्रॉ पर समाप्त हुई।

तेलुगु टाइटंस ने आखिरी बार 2016 में चौथे सीज़न के दौरान प्लेऑफ़ के लिए क्वालीफाई किया था, जहां वे लीग चरण के बाद दूसरे स्थान पर रहे थे। तब से, टाइटंस टूर्नामेंट के नॉकआउट चरण में जगह बनाने में असफल रहे हैं।

इस सीज़न में उनके विनाशकारी अभियान को देखते हुए, यहां तीन कारण बताए गए हैं कि वे प्लेऑफ़ के लिए क्वालीफाई करने में असफल रहे।

3) प्रो कबड्डी 2023 में खराब शुरुआत

तेलुगु टाइटंस ने अपने अभियान की शुरुआत उस तरह नहीं की जैसी वे करना चाहते थे। वे अपने पहले पांच गेम हार गए और किसी भी तरह की गति बनाने में असफल रहे।

टाइटंस अंततः हरियाणा स्टीलर्स के खिलाफ अपने छठे गेम में अपनी पहली जीत हासिल करने में सफल रहे।

हालाँकि, वे पूरे सीज़न में केवल एक और जीत हासिल कर सके, जो यूपी योद्धाओं के खिलाफ मिली।

2) रक्षापंक्ति का असंगत प्रदर्शन

Telugu Titans in PKL 10: तेलुगु टाइटंस के डिफेंडर इस सीज़न में आगे बढ़ने और सामूहिक रूप से प्रदर्शन करने में विफल रहे, जो एक प्रमुख कारण था कि वे मैच जीतने में असफल रहे। डिफेंस में संदीप ढुल और परवेश भैंसवाल जैसे अनुभवी नाम प्रभाव पैदा करने में असफल रहे।

संदीप ने 16 मैचों में सिर्फ 37 टैकल प्वाइंट हासिल किए, जबकि लेफ्ट कवर परवेश का प्रदर्शन बेहद निराशाजनक रहा और उन्हें सिर्फ आठ टैकल प्वाइंट मिले। उनके मुख्य रक्षकों की विफलता ने पूरी रक्षा को प्रभावित किया।

1) पवन सहरावत पर निर्भरता

Telugu Titans in PKL 10: पवन सहरावत प्रो कबड्डी 2023 में तेलुगु टाइटंस की ओर से एकमात्र लगातार अच्छा प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ी थे।

‘हाई-फ्लायर’ ने अकेले दम पर टीम का नेतृत्व किया, 21 मैचों में 202 रेड पॉइंट हासिल किए, और सबसे अधिक रेड पॉइंट की सूची में भी तीसरे स्थान पर हैं।

पवन ने इस सीज़न में 395 रेड डालीं, जिससे पता चलता है कि टीम की रेडिंग विभाग में आने पर उन पर निर्भरता है। कप्तान पर दबाव दिखा क्योंकि वह केवल 39 का सफल रेड प्रतिशत बनाए रख सके।

Also Read: कबड्डी खिलाड़ी मिट्टी से हाथ क्यों रगड़ते है? जानें कारण?

  • कबड्डी टूर्नामेंट सीरीज
  • PKL 10
Aditya Jaiswal
Aditya Jaiswalhttps://prokabaddilivescore.com/
आपका प्रो कबड्डी सूचना स्रोत। नवीनतम कबड्डी समाचार संवाददाताओं में से एक जो खेल पर कहानियां और रिपोर्ट लिखता है।

प्रो कबड्डी न्यूज़ इन हिंदी

कबड्डी हिंदी लेख