ads banner
ads banner
ads banner buaksib
ads banner
ads banner buaksib
ads banner
खिलाड़ियोंरात्रिकालीन कबड्डी प्रतियोगिता समाप्त, मिन्डोलिया टीम जीती

रात्रिकालीन कबड्डी प्रतियोगिता समाप्त, मिन्डोलिया टीम जीती

रात्रिकालीन कबड्डी प्रतियोगिता समाप्त, मिन्डोलिया टीम जीती

Image Source : Google

राजस्थान के भीलवाड़ा में स्थित रोपा क्षेत्र के टिठोड़ा माफी गांव में रात्रिकालीन कबड्डी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था. जिसका समापन मैच कल बुधवार को खेला गया. गांव के श्री शनिदेव क्लब द्वारा आयोजित इस कबड्डी प्रतियोगिता में धूमधाम से सभी टीमों ने भाग लिया था. इसके फाइनल मुकाबले कि बात करें तो मिन्डोलिया और मेजबान टीम आमने-सामने रही थी.

टिठोड़ा माफी गांव में रात्रिकालीन कबड्डी प्रतियोगिता समाप्त

इसके समापन के अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में समाजसेवी भाजपा नेता भरत सिंह राठौड़ पहुंचे थे. उन्होंने खिलाड़ियों का परिचय लिया और विजेता टीम को पुरस्कृत भी किया था. इस मौके पर अध्यक्षता पंचायत समिति सदस्य भाजपा नेता बनवारी शर्मा ने कि थी. वहीं विशिष्ट अतिथि के रूप में पूर्व सरपंच अरविंद मीणा मौजूद रहे थे. बता दें इस दौरान भाजपा युवा मोर्चा पूर्व अध्यक्ष विजय शर्मा, सुरेश माली, प्रभु लाल गुर्जर, धनराज मीणा, नरेश, लोकेश, मनीष, जीवराज, कन्हैयालाल, राजाराम समेत गांव के सैकड़ों खेल प्रेमी मौजूद रहे थे.

इस दौरान भरत सिंह राठौड़ ने खिलाड़ियों से मुलाकात की और उनका प्रोत्साहन किया. फाइनल मैच में खिलाड़ियों का जोश काफी देखने लायक था. विजेता टीम के खिलाड़ी ने उपविजेता टीम के खिलाड़ियों को आगे बढ़ने का मौका नहीं दिया था. फाइनल मुकाबले में जीत हासिल की थी. इस दौरान मुख्य अतिथि भरत सिंह ने टीमों के खिलाड़ियों को अपनी तरफ से टी-शर्ट देने और 5100 रुपए देने की भी घोषणा की.

वहीं आयोजकों का उन्होंने प्रोत्साहन किया और कहा कि इस तरह के आयोजन होने चाहिए जिससे युवाओं को कबड्डी के खेल से जुड़ने का मौका मिल सके. कबड्डी खेल भारत का पारंपरिक खेल है इसके बारे में सबको जानना चाहिए. कबड्डी के खेल से व्यक्ति के शरीर में स्फूर्ति का संचार होता है साथ ही शारीरिक ही नहीं मानसिक विकास संभव है. आज कबड्डी भारत का ही नहीं बल्कि पूरे विश्व का महत्वपूर्ण खेल बन चुका है. जिसके चलते इसका आयोजन आज देश-विदेश में काफी किया जा रहा है.

Yash Sharma
Yash Sharmahttps://prokabaddilivescore.com/
मुझे 12 साल की उम्र से ही इस खेल में दिलचस्पी है। मैं प्रो कबड्डी का फैन हूं।

प्रो कबड्डी न्यूज़ इन हिंदी

कबड्डी हिंदी लेख