ads banner
ads banner
ads banner buaksib
ads banner
ads banner buaksib
ads banner
समाचारश्रीगंगानगर में हुई दो दिवसीय कबड्डी प्रतियोगिता, झुमियांवाली टीम ने जीता खिताब

श्रीगंगानगर में हुई दो दिवसीय कबड्डी प्रतियोगिता, झुमियांवाली टीम ने जीता खिताब

श्रीगंगानगर में हुई दो दिवसीय कबड्डी प्रतियोगिता, झुमियांवाली टीम ने जीता खिताब

राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले में दो दिन के लिए कबड्डी टूर्नामेंट का आयोजन रखा गया था. श्रीगंगानगर के मोरजंड खारी के पास चककेरा गांव में इसका आयोजन किया गया था. जिसमें बालिका वर्ग और बालक वर्ग के खिलाड़ियों ने इसमें भाग लिया था. इसका फाइनल मुकाबला कल खेला गया था. जिसमें पंजाब की टीम झुमियांवाली और चक महाराजा की टीम आमने-सामने रही थी. जिसमें पंजाब राज्य की टीम झुमियांवाली ने रोमांचक मुकाबले में जीत दर्ज कर ली थी.

श्रीगंगानगर में तीसरी बार आयोजित हुई कबड्डी प्रतियोगता

इस मुकाबले में झुमियांवाली टीम ने 21-19 से जीत दर्ज की थी. इस मुकाबले में बेस्ट रेडर और बेस्ट कैचर खिलाड़ियों को चुना गया था. जिसमें सर्वश्रेष्ठ रेडर का अवार्ड गगनदीप कौर को मिला था. जो चक महाराजा से ताल्लुक रखती है. वहीं सर्वश्रेष्ठ कैचर का अवार्ड झुमियांवाली की खिलाड़ी निशा रानी को दिया गया था. साथ ही जीतने वाली टीम को और उपविजेता टीम को सम्मानित कर नगद ईनाम भी दिया गया था. इस दौरान बालिकाओं में काफी जोश और जज्बा दिखाई दे रहा था.

वहीं बात करें बालक वर्ग कि तो इसमें 55 किलो भर वाले मुकाबले में शाहपीनी ने पन्नीवाला टीम को रोमांचक मुकाबले में मात दी थी. बता दें पन्नीवाला टीम पंजाब से आई थी. इस मुकाबले में 22-19 के अंतर से शाहपीनी टीम जीती थी. वहीं एक अन्य मुकाबले में चेककेरा ने सिंहपुरा को बेहद रोमांचक मुकाबले में हराया था. इसमें जीत का अंतर सिर्फ एक पॉइंट रहा था. इस मुकाबले का स्कोर 14-13 रहा.

इस प्रतियोगिता के आयोजन और चक केरा के सीनियर कोच चमकौर सिंह ने बताया कि, ‘तीसरी बार इस कबड्डी प्रतियोगिता का आयोजन इस गांव में हो रहा है. वहीं इस प्रतियोगिता में आठ टीमें शामिल रही. जिसमें झुमियांवाली टीम विजेता बनी थी.’

साथ ही उन्होंने बताया कि, ‘बालक वर्ग में भी 55 किलो भार और 70 किलोभार के कबड्डी मुकाबले खेले गए है.’ बता दें विजेता टीम और उपविजेता टीम को काफी आकर्षक ईनाम दिए गए हैं.

 

Yash Sharma
Yash Sharmahttps://prokabaddilivescore.com/
मुझे 12 साल की उम्र से ही इस खेल में दिलचस्पी है। मैं प्रो कबड्डी का फैन हूं।

प्रो कबड्डी न्यूज़ इन हिंदी

कबड्डी हिंदी लेख