ads banner
ads banner
ads banner buaksib
ads banner
ads banner buaksib
ads banner
खिलाड़ियोंभारतीय महिला कबड्डी टीम में हुआ सोलन की Jyoti का चयन

भारतीय महिला कबड्डी टीम में हुआ सोलन की Jyoti का चयन

भारतीय महिला कबड्डी टीम में हुआ सोलन की Jyoti का चयन

Kabaddi Player Jyoti: सोलन के एक गांव के छोटे किसान सुरेश ठाकुर के घर में खुशी का माहौल है और जब से उन्हें उनकी सबसे छोटी बेटी ज्योति के राष्ट्रीय कबड्डी टीम में चयन की खबर मिली है, तब से पूरे गांव में पूजा-अर्चना का दौर जारी है। हाल ही में।

कंडाघाट के जखेड़ गांव की रहने वाली ज्योति अगले महीने चीन में होने वाले 19वें एशियाई खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए पूरी तरह तैयार है। उन्हें टीम के लिए ऑलराउंडर कैटेगरी में चुना गया है।

जहां ज्योति नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्पोर्ट्स, पटियाला में अपने कौशल को निखारने में व्यस्त है, वहीं उसका परिवार उसके सभी पसंदीदा खाद्य पदार्थों की एक सूची तैयार करने में व्यस्त है, जो वे उसे चंडीगढ़ हवाई अड्डे से चीन के लिए रवाना होने पर देना चाहते हैं।

Kabaddi Player Jyoti ने कसी कमर

ज्योति के पिता सुरेश ठाकुर ने कहा, जब से कबड्डी टीम में उसके चयन की घोषणा हुई है, वह पटियाला में अपने कौशल को निखारने में व्यस्त है। टीम के सभी सदस्यों के फोन छीन लिए गए हैं, इसलिए उससे संपर्क करना मुश्किल है।’

सुरेश ने कहा कि वह खुद एक कबड्डी खिलाड़ी थे और उनकी तीनों बेटियां इस खेल में हैं। उन्होंने कहा, ज्योति अपनी अविश्वसनीय इच्छा शक्ति और कड़ी मेहनत से इस स्थान तक पहुंचने में कामयाब रही। उन्होंने कहा, ‘अपनी बेटियों को चैंपियन बनाएं।’

बड़ी बहनों को देखकर ज्योति ने सीखा कबड्डी

Kabaddi Player Jyoti: ज्योति तीन साल की थी जब अपनी बड़ी बहनों को देखकर उसकी भी रुचि कबड्डी में हो गई और उसने खेलना शुरू कर दिया। उस समय वह सरकारी प्राइमरी स्कूल में पढ़ती थीं। सुरेश ने कहा, ‘उनके पीटी शिक्षक मोहन लाल और राजेश कुमार ने बच्ची में क्षमता देखी और जब वह केवल चार साल की थी, तब उन्होंने पहली बार राज्य स्तर पर खेला।’

जबकि दोनों बड़ी बेटियों अर्चना और कविता ठाकुर ने भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI), धर्मशाला के लिए प्रयास किया, लेकिन अंततः ज्योति का चयन हो गया।

कोच मेहर सिंह से ज्योति ने ली ट्रेनिंग

Kabaddi Player Jyoti: पिता ने कहा, यहीं पर उसे अपने कोच मेहर सिंह वर्मा और गोपाल से पेशेवर कोचिंग मिली, जिन्होंने उसे प्रमुख मंच प्रदान किए और उसके कौशल को और निखारा।

सुरेश ने कहा, ‘उसके बाद उसने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और तब से वह पिछले आठ वर्षों से राष्ट्रीय स्तर पर खेल रही है और उसके खाते में कई स्वर्ण और रजत पदक हैं।’

यह भी पढ़ें: Asian Games 2023 Schedule: जानिए Kabaddi का पूरा कार्यक्रम

Aditya Jaiswal
Aditya Jaiswalhttps://prokabaddilivescore.com/
आपका प्रो कबड्डी सूचना स्रोत। नवीनतम कबड्डी समाचार संवाददाताओं में से एक जो खेल पर कहानियां और रिपोर्ट लिखता है।

प्रो कबड्डी न्यूज़ इन हिंदी

कबड्डी हिंदी लेख