ads banner
ads banner
ads banner buaksib
ads banner
ads banner buaksib
ads banner
घरेलूक्या Sehrawat अगले सीजन भी रहेंगे Bengaluru Bulls के कोच?

क्या Sehrawat अगले सीजन भी रहेंगे Bengaluru Bulls के कोच?

क्या Sehrawat अगले सीजन भी रहेंगे Bengaluru Bulls के कोच?

Bengaluru Bulls: पीकेएल 9 (PKL 9) में एक उल्लेखनीय अभियान के बाद, पीकेएल 10 (PKL 10) में बेंगलुरु बुल्स के लिए पासा पूरी तरह से बदल गया। बुल्स सर्वश्रेष्ठ टीमों में से एक होने और पीकेएल 9 में तीसरे स्थान पर रहने के बाद पीकेएल 10 में ग्रुप चरण से आगे नहीं बढ़ पाई।

बेंगलुरु बुल्स की सीजन की शुरुआत खराब रही और उन्हें अपने शुरुआती चार मैचों में लगातार चार हार का सामना करना पड़ा और उसके बाद यह बुल्स के लिए एक ऊबड़-खाबड़ और असंगत सवारी थी। वे 8 जीत 12 हार और दो ड्रॉ सहित 53 अंकों के साथ तालिका में छठे स्थान पर रहे।

ये भी पढ़ें- Yuva Kabaddi Series: Dhule vs Mumbai के संभावित 7 खिलाड़ी

Bengaluru Bulls: मैनेजर रिपोर्ट कार्ड

बेंगलुरु बुल्स के मुख्य कोच रणधीर सिंह सहरावत पीकेएल के इतिहास में लीग की शुरुआत के बाद से एक ही फ्रेंचाइजी से जुड़े एकमात्र कोच हैं। मैनेजर लीग की गतिशीलता से अच्छी तरह वाकिफ है और उन्होंने पिछले कुछ वर्षों में बुल्स के साथ बहुत सराहनीय काम किया है।

हालांकि, इस सीजन में बुल्स प्लेऑफ में जगह बनाने में असफल रहे और उनके नेतृत्व में 12 हार का सामना करना पड़ा। उन्होंने अतीत में अपनी टीम को ऐसी स्थितियों से बाहर निकाला है और उम्मीद है कि आगामी सीजन में भी ऐसा ही करेंगे। इसके अलावा हमेशा की तरह उन्होंने सुशील और अक्षित जैसे युवा खिलाड़ियों को विकसित किया है जो भविष्य में टीम के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे।

Bengaluru Bulls: बेंगलुरु बुल्स को सीखना चाहिए सबक
इस सीजन में बेंगलुरु बुल्स की मुख्य ताकत उनकी डिफेंस थी, लेकिन उनके रेडरों ने निराश किया। उन्हें अपनी गलतियों से सीखने और ड्रॉइंग बोर्ड पर वापस जाने और टीम में सही संतुलन लाने के लिए आवश्यक बदलाव करने की जरूरत है। इसके अलावा, उन्हें एक बेहतर और अधिक विश्वसनीय छापेमारी विभाग भी विकसित करने की आवश्यकता है।

Bengaluru Bulls: विशेष उल्लेख
जहां कुछ खिलाड़ी प्रचार के अनुरूप प्रदर्शन करने में विफल रहे, वहीं कुछ खिलाड़ी बेंगलुरु बुल्स के लिए मशाल वाहक बनकर उभरे। अक्षित ने अपने पहले सीजन में 61 अंक जुटाए और प्रति मैच औसतन 6 अंक हासिल किए। कप्तान सौरभ नंदल का अभियान भी अच्छा रहा और उन्होंने 21 मैचों में 49 अंक हासिल किये।

Bengaluru Bulls: शीर्ष प्रदर्शन
हरियाणा स्टीलर्स 39-53 बेंगलुरु बुल्स

बेंगलुरु बुल्स 32-30 जयपुर पिंक पैंथर्स

बेंगलुरु बुल्स 35-33 पटना पाइरेट्स

 

 

प्रो कबड्डी न्यूज़ इन हिंदी

कबड्डी हिंदी लेख